Dr. Yogender Malik

/Dr. Yogender Malik
Dr. Yogender Malik2021-02-02T08:37:46+00:00

Dr. Yogender Malik

(President , NMO Haryana Trust )

कामयेडहं गतिमीश्वरात् परामष्टर्द्धियुक्तामपुनर्भवं वा।  आर्ति प्रपद्येडखिल देह भाजामन्तः स्थितो येन भवन्त्यदुःखा॥

भगवान। मैं आपसे आगे सिद्धियों से युक्त परम गति नही चाहता। और तो क्या, मैं मोक्ष की कामना भी नहीं करता। मैं चाहता हूँ तो केवल यही कि सम्पूर्ण प्राणियों के हृदय में स्थित हो जाऊं और उनका सारा दुःख मैं ही सहन करू, जिससे किसी भी प्राणी को दु:ख न हो।

इस भावना को मन में रखकर नैशनल मेडीकोज आर्गेनाईजेशन हरियाणा न्यास का गठन हुआ है। मुझे प्रसन्नता है कि अनेकों कार्य पंजीकरण से पहले ही आरम्भ थे I इस न्यास के कार्य का दायरा विस्तृत है परन्तु निर्लिप्त निस्वार्थ भाव से सब स्वयंसेवक समाज में जैसी और जिन्हें भी आवश्यकता है उनके लिए व्यावसायिक रूप से स्वास्थ्य एवं शिक्षा क्षेत्र में प्राथमिकता से कार्य करेंगें ऐसी अभी अपेक्षा है। न्यास ने अपने छोटे से कार्यकाल में ही अनेकों कार्य संपन्न किये हैं।

प्रयाग में कुम्भ के अवसर पर आयोजित नेत्र कुम्भ के आयोजन में हम सबका सम्मिलित होना गौरव का विषय है। 202020 लोगों की पूर्ण नेत्र जांच एवं 155000 से अधिक को नि:शुल्क चश्मा वितरण दुनिया के इतिहास की अद्भुत घटना है।अपने यहां से भी मेडिकल के विद्यार्थियों ने चिकित्सकों के साथ अपनी सेवाएं वहां दी हैं। अपने साथ स्वयंसेवकों को जोड़ने के लिए कार्यक्रमों का आयोजन भी आरम्भ हुआ है। आरोग्य ग्राम जैसी विलक्षण योजना जिसमें गांव को एनीमिया मुक्त करने का प्रयास पहले से ही जारी था अब इस न्यास के माध्यम से हो रहा है। जिसको आवश्यकता होती है उसको दवा भी अब उपलब्ध करवाई जा रही है। मुझे पूर्ण विश्वास है कि हम अपने द्वारा स्थापित उद्देश्यों की पूर्ति में सफल होंगे।

Sallust ने कहा है –

‘Harmony makes small things grow; lack of it

makes great things decay.’

हम सब यह तभी कर पाएंगे जब आध्यात्मिक भाव हम सबके अन्दर जागृत रहेगा। इसके लिए हमें निरंतर अपने आईने को साफ करते रहना पड़ेगा।

Professor Satish Dhawan told Dr Kalam:

‘Academic brilliance is no different than the brilliance of a mirror. Once dust is removed, the mirror shines and the reflection is clear. We can remove impurities by living pure and ethical lives and serving humanity, and God will shine through us.’

अंत में मैं सब गुणी जनों का स्वामी विवेकानंद जी द्वारा कहे शब्दों से आह्वान करता हूं कि –

‘Take up one idea. Make that one idea your life. Think of it, dream of it, and live on that idea. Let the brain, muscles, nerves, every part of your body, be full of that idea, and just leave every other idea alone. This is way to success.’

Let’s take idea of service through NMO- Haryana Trust and try serving all things, living or non living.

डॉ. योगेन्द्र मलिक

अध्यक्ष, NMO- हरियाणा न्यास